आज का शब्द: अश्रु और महादेवी वर्मा की रचना- सजल है कितना सवेरा!