विशाखापत्तनम चक्रवात चेतावनी केंद्र की निदेशक सुनंदा ने बताया कि दक्षिण अंडमान सागर और उसके आस-पास के क्षेत्रों पर बना चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र अब उत्तरी अंडमान सागर के ऊपर बना हुआ है।