आज का शब्द: भव्य और अज्ञेय की कविता- सवेरे उठा तो धूप खिलकर छा गई थी