पूरा जीवन ब्रिटिश राजगद्दी संभालने की तैयारी करने के बाद अंतत: 73 साल की उम्र में प्रिंस चार्ल्स को महाराज चार्ल्स तृतीय के रूप में देश के सिंहासन पर बैठने का मौका मिला है।