जालंधर के ताजपुर से बड़ी खबर है. ताजपुर चर्च में धर्म के नाम पर चल रही धोखाधड़ी के कारण एक नवजात शिशु की मृत्यु हो गई. बच्चे के परिजनों के अनुसार बच्चा ब्रेन ट्यूमर से ग्रस्त था तभी उन्होंने एक ऑनलाइन विज्ञापन देखा जो कि ताजपुर चर्च का था. जिसमें चर्च के पास्टर बृजेंद्र मरे हुए लोगों को जिंदा और बीमार लोगों को ठीक कर रहे थे.

जिस से प्रभावित होकर बच्चे के परिजन उसे ठीक करवाने के लिए ताजपुर चर्च आ पहुंचे. तत्पश्चात उन्हें पता चला की स्पेशल प्रेयर करवाने के लिए उन्हें 15000 रुपये देने होंगे. जब इस प्रयेयर से बच्चा ठीक नहीं हुआ तब उन्होंने दूसरी स्पेशल प्रेयर करवाने के लिए 50000 रुपये की डिमांड कर डाली तो बच्चे के परिजनों ने ₹50000 दे दिए लेकिन फिर भी बच्चा ठीक नहीं हुआ.

पुलिस ने दिया चर्च वालों का साथ

पुलिस ने बच्चे के परिजनों को भेजा गाड़ी कराकर दिल्ली. लांबडा पुलिस का कहना है कि बच्चे के परिजनों ने कहा कि वह कोई कार्रवाई नहीं करवाना चाहते हैं जबकि बच्चे के परिजनों ने मीडिया में बताया कि उनके साथ धर्म के नाम पर धोखाधड़ी हुई है.

चर्च के प्रधान अवतार सिंह ने मीडिया कर्मियों को खबर ना करने के लिए कहा, पर जब मीडियाकर्मी ना माने तो उन्होंने मीडिया कर्मियों को lambra थाने के अंदर ही धमकी दे डाली कि थाने के बाहर जाते हैं आपके साथ कुछ भी हो सकता है.