आज का शब्द: कराल और सियारामशरण गुप्त की रचना- मृत्युंजय, इस घट में अपना कालकूट भर दे तू आज