अपने संबोधन में चीफ जस्टिस ने कहा कि दिल्ली हाईकोर्ट आने के बाद आश्चर्यजनक रूप से एक भी दिन के लिए मैंने तनावपूर्ण दिन का अनुभव नहीं किया।