आज का शब्द: महनीय और रामगोपाल 'रुद्र' की कविता- निश्छल अंतर