अब तक कुल फ़सल की 58 प्रतिशत आमद होने से जगराओं मंडी बनी अग्रणी

चंडीगढ़, 12 जून:-किसानों को फ़सलीस विभिन्नता के प्रति प्रोत्साहित करने और उनकी आमदन में वृद्धि करने के लिए पंजाब सरकार ने बड़ी पहल करते हुए पहली बार गर्म ॠतु की मूँग की दाल की फ़सल 7275 रुपए प्रति क्विंटल के न्यूनतम समर्थन मूल्य पर किसानों से सीधे रूप से खरीदनी शुरू कर दी है।

लुधियाना जि़ले की जगराओं मंडी में अब तक कुल फ़सल की 58 प्रतिशत आमद हुई है, जिससे यह मंडी पंजाब भर में अग्रणी बन गई है।

गर्म ॠतु की मूँग की दाल 7275 रुपए प्रति क्विंटल के समर्थन मूल्य पर खऱीदी जा रही है, जिससे किसानों को गेहूँ काटने के बाद और धान की फ़सल लगाने से पहले के समय के दौरान इस फ़सल के औसत पाँच क्विंटल की उपज निकलने पर प्रति एकड़ 36000 रुपए की अतिरिक्त आमदन होगी।

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान की अपील को सकारात्मक रूप से स्वीकार करते हुए किसानों ने इस साल लगभग एक लाख एकड़ क्षेत्रफल के अधीन गर्म ॠतु की मूँग की दाल की फ़सल की बिजाई की, जबकि पिछले साल 50,000 एकड़ क्षेत्रफल मूँग की दाल के कृषि अधीन था। इस साल राज्य भर में 4.75 लाख क्विंटल उपज होने का अनुमान है।

मुख्यमंत्री कार्यालय के एक प्रवक्ता के मुताबिक भगवंत मान ने किसानों से अपील की थी, ‘‘इस प्रयास से हम भूजल जैसे बेशकीमती प्राकृतिक संसाधन को बचाने के अलावा ज़मीन की उपजाऊ शक्ति में सुधार कर सकेंगे और किसानों की आमदन में भी वृद्धि होगी। इस कदम से निश्चित रूप से धान की कम समय में तैयार होने वाली किस्मों की पैदावार होगी, जिससे भूजल की 10-20 प्रतिशत बचत होगी।’’

गौरतलब है कि राज्य सरकार ने मंडीकरण सीजन-2022-23 के लिए मूँग की दाल की फ़सल खरीदने, भंडारण और अन्य प्रबंधों के लिए मार्कफैड और सहकारी सभाओं को नोडल एजेंसियाँ बनाया है। इसी तरह पंजाब मंडी बोर्ड ने मूँग की दाल की फ़सल 31 जुलाई तक खरीदने के लिए राज्य भर में 40 मंडियाँ नोटीफायी की हैं। मूँग की दाल खरीदने और किसानों की सुविधा के लिए मार्कफैड और सहकारी सभाओं का स्टाफ नोटीफायी मंडियों में तैनात किया गया है।

पंजाब मंडी बोर्ड से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार राज्य भर की विभिन्न मंडियों में 1503 क्विंटल मूँग की दाल की फ़सल की आमद हुई है, जिसमें से अब तक 878 क्विंटल की खरीद की जा चुकी है। राज्य की एजेंसी मार्कफैड ने न्यूनतम समर्थन मूल्य पर 663 क्विंटल, जबकि बाकी 215 क्विंटल निजी एजेंसियों ने न्यूनतम समर्थन मूल्य से अधिक भाव पर खऱीदी।

राज्य भर की मंडियों में अब तक हुई कुल आमद में अकेली जगराओं मंडी में 790 क्विंटल फ़सल (58 प्रतिशत) पहुँची है, जबकि इसके बाद बरनाला की मंडियाँ शामिल हैं, जहाँ 510 क्विंटल फ़सल पहुँची है।

जगराओं मंडी में पहुँची 790 क्विंटल मूँग की दाल में से राज्य की खरीद एजेंसी मार्कफैड और प्राईवेट एजेंसियों ने 555 क्विंटल को न्यूनतम समर्थन मूल्य या इससे अधिक भाव पर खरीदा।

राज्य सरकार ने न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदी गई फ़सल की अदायगी डायरेक्ट बैनेफिट ट्रांसफर (डी.बी.टी.) के द्वारा करने की प्रक्रिया अपनाई हुई है और खरीद एजेंसी मार्कफैड द्वारा मूँग की दाल बेचने वाले किसानों के बैंक खातों में सीधे तौर पर अदायगी की जा रही है।