रोजग़ार पैदा करने वाले उद्योगों को आकर्षित करने के लिए नीतियाँ बनाई जाएँ, उद्योग विभाग को दिए निर्देश

तत्काल अंतर-विभागीय मंजूरियों को सुनिश्चित बनाने के लिए सिंगल विन्डो सिस्टम को मज़बूत करने के आदेश

चंडीगढ़, 11 अप्रैल:राज्य में उद्योग अनुकूल माहौल सृजन करने की ज़रूरत पर ज़ोर देते हुए मुख्यमंत्री भगवंत मान ने आज उद्योग विभाग को निर्देश दिए कि उद्योगों को अनापत्ति प्रमाण पत्र (एन.ओ.सी.) प्रदान करने के लिए सिंगल विन्डो प्रणाली को और मज़बूत करने के लिए अंतर-विभागीय मंजूरियों की प्रक्रिया को सरल बनाने के अलावा रोजग़ार पैदा करने वाले उद्योग को आकर्षित करने के लिए नीतियाँ बनाई जाएँ।

उद्योग एवं वाणिज्य विभाग की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए मान ने कहा कि राज्य में भ्रष्टाचार मुक्त और लोक-हितैषी माहौल सृजन करने के लिए आम आदमी पार्टी की सरकार के प्रयास राज्य में औद्योगिक विकास को और बढ़ावा देंगे। मान ने उद्योग विभाग को ऐसे उद्योगों को आकर्षित करने वाली नीति बनाने के निर्देश देते हुए कहा कि राज्य में उद्योगों के लिए जल्द ही अनुकूल माहौल तैयार होगा, परन्तु हम अपने युवाओं के लिए रोजग़ार के विशाल अवसर पैदा करने के लिए ऐसे उद्योगों को आकर्षित करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं जिससे रोजग़ार पैदा हों।

नए उद्योगों को एन.ओ.सी. प्रदान करने के लिए सिंगल विन्डो सिस्टम की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने सिस्टम को और बेहतर बनाने के लिए कुछ महत्वपूर्ण निरीक्षण किए और विभाग को निवेशकों के लिए कुशल, पारदर्शी और परेशानी मुक्त सेवाओं को सुनिश्चित बनाने के लिए इसमें नए बदलाव लाने के लिए कहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि सफलता खुद बोलती है और उद्योगपति राज्य की नीतियों और पहलों की खुद प्रशंसा करेंगे। 

इस दौरान उद्योग एवं वाणिज्य विभाग के प्रमुख सचिव तेजवीर सिंह ने मुख्यमंत्री को राज्य में उद्योग की मौजूदा विकास दर, इस क्षेत्र को दी जा रही रियायतों और दरपेश प्रमुख चुनौतियों के बारे में अवगत करवाया।

बैठक में अन्यों के अलावा मुख्यमंत्री के अतिरिक्त मुख्य सचिव ए. वेणु प्रसाद, पंजाब ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टमेंट प्रमोशन के सीईओ रजत अग्रवाल, उद्योग एवं वाणिज्य विभाग के निदेशक सिबिन सी भी उपस्थित थे।