विभाग ने महीना भर चलने वाली पहलकदमी के लिए विषयों की की पहचान


चंडीगढ़, 2 सितम्बरः-पंजाब के सामाजिक सुरक्षा, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अरुणा चौधरी ने आज बताया कि चौथा पोषण माह सितम्बर महीने में राज्य भर में जन आंदोलन के तौर पर मनाया जा रहा है और इस सम्बन्धी विभिन्न स्थानों पर प्रोग्राम करवाए जा रहे हैं।

आज यहां जारी प्रैस रिलीज में श्रीमती चौधरी ने बताया कि मल्टी-मिनिस्टरियल कनवर्ज़न मिशन पोषण अभ्यान के लिए विभाग द्वारा चार हफ़्तों के लिए चार बुनियादी विषयों की पहचान की गई। पहले हफ़्ते के दौरान आंगनवाड़ी केन्द्रों, स्कूलों, पंचायतों और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर पोषण वाटिका के रूप में पौधे लगाये जाएंगे, जब कि दूसरे हफ़्ते योगा और आयुष सम्बन्धी गतिविधियां करवाई जाएंगी। उन्होंने आगे बताया कि तीसरे हफ़्ते के दौरान आईईसी सामग्री के साथ और ज्यादा जरूरतमंद जिलों में आंगनवाड़ी लाभार्थियों को पोषण किटों का वितरण किया जायेगा। इसी तरह एसएएम की पहचान और पौष्टिक भोजन के वितरण के लिए मुहिम चौथे हफ़्ते का मुख्य मकसद रहेगा।

कैबिनेट मंत्री ने कहा कि यह प्रोग्राम जन्म से पहले की देखभाल, माता का दूध पिलाने (जल्द और विशेष रूप में), पूरक ख़ुराक, अनीमिया (ख़ून की कमी), बच्चों के वृद्धि की निगरानी, लड़कियों की शिक्षा, ख़ुराक, विवाह की सही आयु, सफ़ाई और स्वच्छता और भोजन की सुरक्षा सम्बन्धी विषयों पर केंद्रित है। उन्होंने आगे कहा कि यह प्रोग्राम पहले ही 1 सितम्बर, 2021 से पौधे लगाने की गतिविधियों के साथ शुरू हो चुका है। पूरे महीने के दौरान सम्बन्धित विभागों के तालमेल से स्थानीय खानों को उत्साहित करना, लाभार्थियों को पोषण किटों का वितरण, योगा सैशन और एसएएम बच्चों की पहचान जैसी अन्य कई गतिविधियां करवाई जाएंगी।