छह पी.पी.एस. अधिकारियों समेत 15 पुलिस अधिकारियों को कर्तव्य के प्रति समर्पण के लिए मिलेगा मुख्यमंत्री पदक

चंडीगढ़, 14 अगस्त:-राज्य सरकार की सिफारिशों पर पंजाब के राज्यपाल ने आज सब-इंस्पेक्टर जसवीर सिंह, जिन्होंने मलेरकोटला में दुकान के ऊपर स्थित एक घर को आग लगने के बाद वहाँ रहने वाले परिवार को बचाने के लिए असाधारण वीरता दिखाई थी, को मुख्यमंत्री रक्षक पदक पुरस्कार देने का ऐलान किया है। एस.आई. जसवीर सिंह इस समय एसएचओ सीटी-2, मलेरकोटला के तौर पर तैनात हैं।

पंजाब के राज्यपाल ने एआईजी एसटीएफ लुधियाना रेंज स्नेहदीप शर्मा, डीसीपी जालंधर गुरमीत सिंह, एडीसीपी-4 लुधियाना रुपिन्दर कौर सरा, एडीसीपी जांच लुधियाना रुपिन्दर कौर भट्टी, डीएसपी डिटैक्टिव मोगा जंगजीत सिंह और डीएसपी डिटैक्टिव अमृतसर ग्रामीण गुरिन्दरपाल सिंह समेत 15 अधिकारियों/कर्मचारियों के नामों का ऐलान भी किया, जिनको ड्यूटी के प्रति समर्पण के लिए मुख्यमंत्री पदक से सम्मानित किया जाएगा। ड्यूटी के प्रति समर्पण के लिए मुख्यमंत्री पदक के लिए चुने गए शेष अधिकारियों में इंस्पेक्टर गुरप्रीत सिंह, इंस्पेक्टर सुरिन्दर कौर, इंस्पेक्टर बिठल हरी, एसआई लखबीर सिंह, एएसआई कंवलजीत सिंह, एएसआई अमनदीप सिंह, एएसआई जगदीप सिंह, कॉन्स्टेबल जगजीत सिंह और कॉन्स्टेबल दलजीत कुमार शामिल हैं।

डायरैक्टर जनरल ऑफ पुलिस (डीजीपी), पंजाब दिनकर गुप्ता ने पुरस्कार विजेताओं को बधाई दी और पंजाब पुलिस के अधिकारी/कर्मचारी की सेवा को मान्यता देने के लिए पंजाब सरकार का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि ऐसी मान्यताएं पुलिस फोर्स को और समर्पण और निष्ठा से काम करने के लिए प्रोत्साहित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।