बिलासपुर 7 अगस्त - उत्तरी भारत की विख्यात शक्ति स्थली माता श्री नैना देवी जी में 9 अगस्त से 17 अगस्त तक श्रावण अष्टमी नवरात्र मनाया जा रहा है। यह जानकारी देते हुए उपायुक्त पंकज राय ने बताया कि श्रावण अष्टमी नवरात्र में विभिन्न प्रदेशों से खासकर पंजाब राज्य से काफी श्रद्धालु दर्शन करने के लिए माता श्री नयना देवी जी मंदिर में आते है।

उन्होंने बताया कि इस वर्ष कोरोना महामारी के चलते प्रदेश सरकार द्वारा निर्णय लिया गया हैं कि प्रदेश के बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को श्री नयना देवी जी में 9 से 17 अगस्त तक दर्शन करने के लिए के 72 घण्टे पहले की आरटीपीसीआर की नेगेटिव रिपाॅर्ट या कोविड रोधी दोनों वैक्सिन का सर्टिफिकट लाना आवश्यक है। बिना सर्टिफिकट या रिपाॅर्ट के बिना हिमाचल की बाउन्ड्री में किसी भी श्रद्धालु को आने की अनुमति नहीं दी जाएगी।
नो मास्क नो दर्शन
उन्होंने दूसरों राज्यों से आने वाले सभी श्रद्धालुओं से आग्रह किया कि कोविड रोधी वैक्सिन का सर्टिफिकट या आरटीपीसीआर नेगेटिव रिपाॅर्ट लाना सुनिश्चित करें ताकि श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े। उन्होंने कहा कि सभी श्रद्धालुओं को सरकार द्वारा दिए गए एसओपी (मानक संचालन प्रक्रिया) का पालन करना होगा तथा ‘नो मास्क नो दर्शन’ के तहत यदि मास्क नहीं होगा तो किसी भी श्रद्धालु को माता श्री नयना देवी जी के दर्शन करना का मौका नहीं मिलेगा।
कोरोना से खबराए नहीं सतर्क रहें
उन्होंने सभी श्रद्धालुओं से अपील कि कोरोना की तीसरी लहर का खतरा अभी भी बना हुआ है। कोरोना से खबराए नहीं सतर्क रहें। उन्होंने कहा कि मास्क सही ढंग से पहने, उचित सामाजिक दूरी का पालन करें तथा बार-बार अपने हाथ साबुन से धोएं या हैंड सैनीटाईजर का प्रयोग करें। भीड़-भाड़ वाली जगह पर न जाएं तथा अफवाहों पर ध्यान न दें खुद रहें सुरक्षित और दूसरों को भी रखें सुरक्षित।