कैबिनेट मंत्री ने गुमनाम देशभगतों के स्मारक बनाने का ऐलान करने के लिए मुख्यमंत्री का किया धन्यवाद

चंडीगढ़/सुनाम ऊधम सिंह वाला, 31 जुलाईः-शहीद ऊधम सिंह को उनके 82वें शहीदी दिवस के मौके पर श्रद्धांजलि भेंट करते हुये स्कूल शिक्षा और लोक निर्माण मंत्री पंजाब श्री विजय इंदर सिंगला ने कहा कि सरदार ऊधम सिंह जी के अतुल्य बलिदान ने देश और दुनिया को आपसी भाईचारे और राष्ट्रीय एकता का संदेश दिया है। शहीद ऊधम सिंह के स्मारक पर श्रद्धांजलि भेंट करते हुये श्री विजय इंदर सिंगला ने कहा अपना नाम राम मुहम्मद सिंह आज़ाद के तौर पर बदलना शहीद ऊधम सिंह के धर्म निष्पक्षता के संदेश की लाखों परतें अपने में समेटे हुये है। उन्होंने कहा कि जिस तरह 21 साल बाद सरदार ऊधम सिंह ने तत्कालीन पंजाब के लैफ्टिनैंट गवर्नर मायकल ओडवायर को मार कर बदला लिया, वह हमारी आने वाली पीढि़यों को देश का आत्म सम्मान और गर्व से सेवा करने के लिए प्रेरित करता रहेगा।

कांग्रेस का नेतृत्व वाली केंद्र और राज्य सरकारों के योगदान को याद करते श्री सिंगला ने कहा कि देशभगतों और शहीदों को सम्मान देने के लिए ज़्यादातर यादचिन्ह कांग्रेस पार्टी के नेतृत्व वाली सरकारों के द्वारा ही बनवाये गये हैं। उन्होंने कहा कि इसके साथ ही तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इन्द्रिा गांधी, शंकर दयाल शर्मा और उस समय पर पंजाब के मुख्यमंत्री रहे ज्ञानी जेल सिंह जी की अथक कोशिशों के स्वरुप ही लगभग 40 साल बाद उनकी अस्थियां देश में लाईं गई थीं।

इस मौके पर श्री विजय इंदर सिंगला ने गुमनाम देशभगतों की याद को समर्पित स्मारक बनाने का ऐलान करने पर धन्यवाद करते हुये कहा कि यह स्मारक उन अनगिनत योद्धाओं की अनकहीं गाथाओं को संभालने का काम करेगा जिन पंजाबियों ने देश की आज़ादी की लहर में जानें न्योछावर करके अपना योगदान डाला।