1950 के बाद के रजिस्टरियों सम्बन्धी सभी निर्देशों का संकलन सराहनीय काम -कांगड़

चंडीगढ़, 23 मई:-पंजाब के राजस्व मंत्री श्री गुरप्रीत सिंह कांगड़ द्वारा अपने कैंप दफ्तर, चंडीगढ़ में पंजाब राजस्व अफसर ऐसोसीएशन द्वारा संकलित डायरेक्टरी और रजिस्टरियों सम्बन्धी निर्देशों की पुस्तिका जारी की।
पंजाब राजस्व अफसर ऐसोसीएशन के सदस्यों के यत्नों की सराहना करते हुये मंत्री ने कहा कि 1950 से लेकर आज तक रजिस्टरियों सम्बन्धी सभी निर्देशों का संकलन सराहनीय है। उन्होंने कहा कि जायदाद सम्बन्धी रजिस्टरी प्रक्रिया में समय के साथ कई बदलाव आये हैं। बहुत सी नयी हिदायतें जारी की गई हैं और बहुत सी समय के साथ बेकार हो गई हैं। इसलिए, सम्बन्धित निर्देशों के पूरे समूह को तैयार करना सराहनीय काम है। यह न सिर्फ मौजूदा राजस्व अफसरों के काम आऐगा बल्कि विभाग में नये शामिल किये जाने वालों के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण होगा।
उन्होंने कहा कि विभाग में मौजूदा समय सेवाएं निभा रहे नायब तहसीलदार, तहसीलदार और जिला राजस्व अधिकारी (डीआरओ) के रैंक के सभी राजस्व अफसरों और साल 1979 से, जब डीआरओ का पद बनाया गया था, सेवाएं निभाने वाले अधिकारियों के फोन नंबर और जानकारी वर्णमाला अनुसार संगठित करना बहुत मुश्किल काम है। ऐसोसीएशन की तरफ से तैयार यह डायरेक्टरी एक महत्वपूर्ण डाटाबेस होगी।
 
इस दौरान, पंजाब राजस्व अफसर ऐसोसीएशन के प्रधान गुरदेव सिंह धम्म ने बताया कि उनकी ऐसोसीएशन के कुछ राजस्व अफसर राजस्व कानूनों और तहसीलदार/नायब तहसीलदार नियम और कानूनों को तैयार करने पर भी काम कर रहे हैं और जल्दी ही दोनों विषयों पर पुस्तक जारी की जाएंगी।