पीसीओडी एक ऐसी बीमारी है जिसकी वजह से महिला को प्रेगनेंट होने में काफी दिक्कत होती है और चूंकि इस बीमारी का कोई निश्चित इलाज नहीं है इसलिए सिर्फ सही डाइट के जरिए ही इसे कंट्रोल किया जा सकता है.

साल 2019 के आंकड़ों की मानें तो भारत में हर 10 में से 1 महिला को पीसीओडी यानी पॉलिसिस्टिक ओवरी डिजीज (PCOD) की बीमारी है. ये शरीर के मेटाबॉलिज्म (Metabolism) और हार्मोन्स के असंतुलन (Hormonal Imbalance) से जुड़ी बीमारी है जिसमें महिला की ओवरीज यानी अंडाशय में कई सारे छोटे-छोटे सिस्ट यानी पुटक (Cyst) बनने लगते हैं. इसकी वजह से हार्मोन के उत्पादन में गड़बड़ी आ जाती है, पीरियड्स अनियमित हो जाते हैं (Irregular Periods), इन्फर्टिलिटी का खतरा बढ़ जाता है जिस वजह से मां बनने में मुश्किल आती है. इतना ही नहीं डायबिटीज (Diabetes) और शरीर पर अनचाहे बालों का बढ़ना जैसी दिक्कतें भी देखने को मिलती हैं.


पीसीओडी का कोई इलाज मौजूद नहीं है


सबसे बड़ी मुश्किल की बात ये है कि इस बीमारी का कोई निश्चित इलाज मौजूद नहीं है. एक बार ये बीमारी हो जाए उसके बाद इसे पूरी तरह से ठीक नहीं किया जा सकता लेकिन लाइफस्टाइल और खानपान में बदलाव (Diet Change) करके इसे सही तरीके से मैनेज जरूर किया जा सकता है. खानपान को मैनेज करना इसलिए भी जरूरी क्योंकि पीसीओडी से पीड़ित ज्यादातर महिलाएं ओवरवेट होती हैं. डाइट को कंट्रोल करके वेट मैनेज किया जा सकता है और इंसुलिन (Insulin) के उत्पादन को भी कंट्रोल किया जा सकता है ताकि डायबिटीज की बीमारी न हो. 

पीसीओडी के मरीजों के लिए ऐसी होनी चाहिए डाइट   


1. अपनी डाइट में फल और सब्जियों को अधिक शामिल करें और डेयरी प्रॉडक्ट्स का कम से कम सेवन करें क्योंकि डेयरी उत्पाद इंसुलिन लेवल को बढाने का काम करते हैं.
2. बिना चर्बी वाले मीट और मछली आदि का सेवन करें, रेड मीट न खाएं क्योंकि इससे इन्फर्टिलिटी का खतरा बढ़ता है. साथ ही बहुत अधिक चीनी वाले फूड्स और ड्रिंक्स का भी सेवन न करें.
3. पीसीओडी से पीड़ित डायबीटिक डाइट का सेवन कर सकती हैं जिसमें फाइबर की मात्रा अधिक होती है और कार्बोहाइड्रेट्स और प्रोसेस्ड फूड की मात्रा बेहद कम. साथ ही साबुत अनाज, ब्राउन राइस- इस तरह की चीजें खाएं जिसका ग्लाइसिमिक इंडेक्स कम हो.
4. चीनी, गुड़, शहद, मैदा, सूजी, सफेद चावल, पोहा इन चीजों का सेवन बिलकुल न करें.
5. शरीर के हार्मोन्स को कंट्रोल में रखने के लिए मेथी दाना, अलसी के बीज और दालचीनी जैसी चीजों का सेवन जरूर करें.