ज्यादातर लोगों को लगता है कि सीने में तेज दर्द होना ही सिर्फ हार्ट अटैक का लक्षण है. लेकिन सांस फूलना, अत्यधिक थकान महसूस होना और सिर चकराना भी हार्ट अटैक के शुरुआती लक्षण हो सकते हैं.

आपको ये जानकर हैरानी होगी लेकिन ये सच है कि कई बार हफ्तों पहले ही आपका शरीर हार्ट अटैक के संकेत देने लगता है और अगर आपने इन लक्षणों और संकेतों को पहचान लिया तो हार्ट अटैक जिसे एक्यूट मायोकार्डियल इन्फार्क्शन भी कहते हैं उसे जानलेवा होने से बचाया जा सकता है. दरअसल, हार्ट अटैक (Heart Attack) 2 तरह का होता है- सडेन (Sudden) यानी अचानक और ग्रैजुअल (Gradual) यानी धीरे-धीरे विकसित होने वाला. सोसायटी ऑफ कार्डियोवस्कुलर पेशेंट केयर की मानें तो हार्ट अटैक के करीब 50 प्रतिशत मामलों में पहले ही लक्षण नजर आ जाते हैं और हार्ट अटैक के करीब 85 प्रतिशत मामले में शुरुआती 2 घंटे में ही हार्ट को नुकसान (Heart Damage) पहुंचता है.


पुरुषों में हार्ट अटैक के लक्षण


हार्ट अटैक से जुड़े आंकड़ों की मानें तो महिलाओं की तुलना में पुरुषों को हार्ट अटैक का खतरा अधिक होता है. अगर आप धूम्रपान करते हैं (Smoking), आपको हाई ब्लड प्रेशर (High BP) है, हाई कोलेस्ट्रॉल (High Cholesterol) की समस्या है, मोटापा है (Obesity) तो आपको हार्ट अटैक का खतरा अधिक होगा. पुरुषों में हार्ट अटैक के जो लक्षण नजर आते हैं वे महिलाओं की तुलना में थोड़े से अलग होते हैं:

- सीने में तेज दर्द होना, ऐसा महसूस होना मानो सीने में तेज धमक हो रही हो. ये दर्द लगातार बना रह सकता है और आता-जाता भी रह सकता है.
- शरीर के ऊपरी हिस्से में दर्द या असहजता महसूस होना जैसे- हाथ में, बाजू में, कंधे में, पीठ में, गर्दन में, जबड़े में या फिर पेट में दर्द होना.
- हार्ट बीट का अनियमित (Irregular Heart Beat) होना या धीमा हो जाना
- पेट में दर्द या अजीब सा महसूस होना मानो बदहजमी हो गई हो
- सांस फूलना और ऐसा महसूस होना कि आराम करते वक्त भी सांस लेने के लिए पर्याप्त हवा नहीं मिल पा रही है
- सिर घूमना, सिर चकराना, ऐसा लगना कि बेहोशी आ रही हो
- कंपकंपी के साथ पसीना भी आना (Cold Sweat)
हर व्यक्ति में हार्ट अटैक के लक्षण अलग-अलग होते हैं और सभी लोगों में सभी लक्षण दिखें ऐसा जरूरी नहीं है. आप अपने शरीर को बेहतर समझते हैं इसलिए अपने लक्षणों और संकेतों को जरूर पहचानें.

महिलाओं में हार्ट अटैक के लक्षण


साल 2003 में सर्कुलेशन नाम के जर्नल में एक स्टडी प्रकाशित हुई जिसमें यह बात सामने आयी कि महिलाओं में जब हार्ट अटैक आता है तो ज्यादातर में सीने में दर्द (Chest Pain) का लक्षण नहीं होता. इसकी जगह महिलाओं में बहुत अधिक और असामान्य थकान (Fatigue), नींद से जुड़ी दिक्कतें और ऐंग्जाइटी (Anxiety) देखने को मिलती है. स्टडी में शामिल 80 प्रतिशत महिलाओं में हार्ट अटैक आने से 1 महीने पहले कम से कम एक लक्षण जरूर महसूस हुए थे. महिलाओं में हार्ट अटैक के सामान्य लक्षण हैं:
- बहुत अधिक असामान्य थकान महसूस होना जो कई दिनों तक जारी रहे या फिर अचानक ही बिना किसी कारण बहुत अधिक थकान महसूस होने लगे
- नींद से जुड़ी समस्याएं
- सिर में भारीपन महसूस होना, सिर चकराना, सिर घूमना
- ऐंग्जाइटी फील होना
- अपच, बदहजमी या पेट में गैस जैसा दर्द होना
- पीठ के ऊपरी हिस्से में, कंधे में और गले या कंठ में दर्द होना
- जबड़े में तेज दर्द महसूस होना
- सीने के बिलकुल सेंटर में तेज दर्द या प्रेशर महसूस होना जो बाजूओं तक फैल जाए
दुर्भाग्यवश पुरुषों की तुलना में महिलाओं में हार्ट अटैक आने पर उनके बचने की संभावना काफी कम होती है क्योंकि वे अपने लक्षणों और सेहत से जुड़ी समस्याओं को गंभीरता से नहीं लेतीं और समय पर इलाज न होने की वजह से उनकी मौत हो जाती है.