फ्रांसिस ज़ेवियर का जन्म 7 अप्रैल, 1506 ई. को स्पेन में हुआ था। पुर्तगाल के राजा जॉन तृतीय तथा पोप की सहायता से वे जेसुइट मिशनरी बनाकर 7 अप्रैल 1541 ई को भारत भेजे गए और 6 मार्च 1542 ई. को गोवा पहुँचे जो पुर्तगाल के राजा के अधिकार में था। गोवा में मिशनरी कार्य करने के बाद वे मद्रास तथा त्रावणकोर गए। यहाँ मिशनरी कार्य करने के उपरांत वे 1545 ई. में मलाया प्रायद्वीप में ईसाई धर्म का प्रचार करने के लिए रवना हो गए। उन्होंने तीन वर्ष तक धर्म प्रचारक (मिशनरी) कार्य किया। मलाया प्रायद्वीप में एक जापानी युवक से जिसका नाम हंजीरो था, उनकी मुलाकात हुई। सेंट जेवियर के उपदेश से यह युवक प्रभावित हुआ। 1549 ई. में सेंट ज़ेवियर इस युवक के साथ पहुँचे। जापानी भाषा न जानते हुए भी उन्होंने हंजीरों की सहायता से ढाई वर्ष तक प्रचार किया और बहुतों की खिष्टीय धर्म का अनुयायी बनाया।


जापान से वे 1552 ई. में गोवा लौटे और कुछ समय के उपरांत चीन पहुँचे। वहाँ दक्षिणी पूर्वी भाग के एक द्वीप में जो मकाओ के समीप है बुखार के कारण उनकी मृत्यु हो गई। मिशनरी समाज उनको काफी महत्व का स्थान देता और उन्हें आदर तथा सम्मान का पात्र समझता, है क्योंकि वे भक्तिभावपूर्ण और धार्मिक प्रवृत्ति के मनुष्य थे। वे सच्चे मिशनरी थे। संत जेवियर ने केवल दस वर्ष के अल्प मिशनरी समय में 52 भिन्न भिन्न राज्यों में यीशु मसीह का प्रचार किया। कहा जाता है, उन्होंने नौ हजार मील के क्षेत्र में घूम घूमकर प्रचार किया और लाखों लोगों को यीशु मसीह का शिष्य बनाया।

संत फ्रांसिस जेवियर की डेड बॉडी आज भी बेसिलिका ऑफ बॉम (Bom Basilica Church) जीसस के चर्च में रखी है। गोवा के जर्नलिस्ट फ्रेडी अल्मेडा के मुताबिक, हर 10 साल में ये बॉडी दर्शन के लिए रखी जाती है। 2014 में आखिरी बार इस बॉडी को दर्शन के लिए निकाला गया था। बॉडी को कांच के एक ताबूत में रखा गया है। आज भी ये बॉडी सड़ी नहीं है।

संत की बॉडी को लेकर कहानी प्रचलित है कि मृत्यु के पहले संत फ्रांसिस जेवियर ने अपना हाथ अपनी दिव्य शक्तियों के जरिए शरीर से अलग किया था। यह हाथ उन्होंने अपनी पहचान के तौर पर रोम से आने वाले संतों के डेलिगेशन के लिए रखा था। इसके साथ उन्होंने एक चिट्ठी भी शिष्यों को दी थी। आज भी यह अलग हुआ हाथ चर्च में ही मौजूद है।

संत के मृत शरीर को कई बार अंग-भंग किया जा चुका है। 1553 में जब एक सेवक उनके मृत शरीर को सिंकियान से मलक्का ले जा रहा था तो जहाज के कप्तान को प्रमाण देने के लिए उनके घुटने का मांस नोंच लिया। 1554 में एक पुर्तगाली महिला यात्री ने उनकी एड़ी का मांस काटकर स्मृति के रूप में उनके पवित्र अवशेष अपने साथ पुर्तगाल ले गई। संत के पैर की एड़ी अलग हो गई, जिसे वेसिलिका के ‘ऐक्राइटी में एक क्रिस्टल पात्र में रखा गया। 1695 में संत की भुजा के भाग को रोम भेजा गया, जिसे ‘चर्च ऑफ गेसू में प्रतिष्ठित किया गया। बाएं हाथ का कुछ हिस्सा 1619 में जापान के ‘जेसुएट प्रॉविंस में प्रतिष्ठित किया गया। पेट का कुछ भाग निकालकर विभिन्न स्थानों पर स्मृति अवशेष के लिए भेजा गया।

भारत  मिशन

बैंड के सभी सदस्यों ने अपनी पढ़ाई पूरी कीवे वेनिस में फिर से आएजहां जेवियर को 24 जून 1537 को पुजारी ठहराया गया था। एक वर्ष से अधिक समय के लिए पवित्र भूमि को बेकारसातनए रंगरूटों , पोप के निपटान में खुद को रखने के लिए रोम गए। इस बीचमध्य इटली में उनके बीमारों के प्रचार और देखभाल के परिणामस्वरूपवे बहुत लोकप्रिय हो गए थे कि कई कैथोलिक राजनेताओं ने अपनी सेवाएं मांगी थी। उनमें से एक पुर्तगाल के किंग जॉन III थेजिन्होंने ईसाईयों के मंत्री के लिए मेहनती याजकों की इच्छा की थी और लोगों को अपने नए एशियाई प्रभुत्व में प्रचार करने के लिए प्रेरित किया। जब बीमारी से काम करने के लिए मूल रूप से चुने गए दो में से एक को रोका गयाइग्नाटियस ने अपनी जगह के रूप में जेवियर को नामित किया। अगले दिन, 15 मार्च, 1540, फ्रांसिस ने इंडीज के लिए रोम छोड़ दियालिस्बन से पहले यात्रा निम्नलिखित गिरावट मेंपोप पॉल तृतीय ने औपचारिक रूप से इग्नाटियस के अनुयायी को धार्मिक आदेशयीशु की सोसायटी के रूप में पहचाना।

फ्रांसिस ने गोवा में, 6 मई 1542 को पूर्व में पुर्तगाली गतिविधियों का केंद्र उतार दियाउसके साथी लिस्बन में काम करने के लिए पीछे रह गए थे अगले तीन सालों में उन्होंने भारत के दक्षिणी तट पर सरलगरीब मोती मछुआरोंपरवों में बिताया। उनमें से लगभग 20,000 ने सात साल पहले बपतिस्मा स्वीकार किया थामुख्यतः उनके दुश्मनों के खिलाफ पुर्तगाली समर्थन को सुरक्षित करनातब सेहालांकिवे उपेक्षित किया गया था। एक छोटे से कैटिज़्म का इस्तेमाल करके उन्होंने देशी