शराब सेहत के लिए हानिकारक है ये तो हम सभी जानते हैं लेकिन इन दिनों बहुत से यंगस्टर्स अल्कोहल में एनर्जी ड्रिंक मिक्स करके पीना पसंद कर रहे हैं जिसका खतरा और भी ज्यादा है. कैसे, यहां जानें.

बीते कुछ सालों में दुनियाभर में ड्रिंकिंग का एक नया ट्रेंड देखने को मिल रहा है और वो है- अल्कोहल को कैफीन के साथ मिक्स करना. एनर्जी ड्रिंक (Energy Drink) के मार्केट में जिस तेजी से बढ़ोतरी हुई है उसकी वजह से ही अब बार में भी एनर्जी ड्रिंक की एंट्री हो गई है और अल्कोहल (Alcohol) के साथ एनर्जी ड्रिंक को मिक्स करके कई तरह के कॉकटेल (Cocktail) तैयार किए जा रहे हैं. इस तरह 2 अलग-अलग ड्रिंक्स को मिक्स करने का एक्सपेरिमेंट भले ही देखने और सुनने में इंट्रेस्टिंग लगे लेकिन इसे पीना सेहत के लिए काफी नुकसानदेह हो सकता है.


एनर्जी ड्रिंक मिक्स करने पर बहुत अधिक शराब पी लेते हैं लोग


इस बारे में अब तक कई स्टडीज हुई हैं जिनमें कहा गया है कि अल्कोहल को Energy Drink के साथ मिक्स (Alcohol with Energy Drink) करके पीना बेहद खतरनाक है. दरअसल, जब कोई व्यक्ति शराब पीता है तो कुछ समय बाद वह थक जाता है क्योंकि अल्कोहल अवसादक यानी डिप्रेसेंट का काम करता है. लेकिन जब कोई व्यक्ति एनर्जी ड्रिंक के साथ मिलाकर शराब पीता है तो उसे थकान महसूस नहीं होती और उसे पता ही नहीं होता कि वो नशे में हैं और परिणामस्वरूप, वह व्यक्ति अपनी क्षमता से कहीं अधिक शराब पी लेता है जिसकी वजह से अल्कोहल-संबंधी नुकसान का खतरा बढ़ जाता है.    

दोनों ड्रिंक मिक्स करने को लेकर क्या कहता है साइंस?


अमेरिका के सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) की मानें तो अल्कोहल के साथ एनर्जी ड्रिंक मिक्स करने वाले लोगों द्वारा Binge Drink करने यानी बहुत अधिक शराब पीने का खतरा 3 गुना अधिक था उन लोगों की तुलना में जो अल्कोहल के साथ एनर्जी ड्रिंक मिक्स नहीं करते. ऐसे में अल्कोहल का अचानक से बहुत अधिक सेवन करने की वजह से पॉयजनिंग के साथ-साथ कन्फ्यूजन की स्थिति, सांस फूलना, शरीर का तापमान कम हो जाना, उल्टी आना और दौरे पड़ना जैसे लक्षण भी देखने को मिल सकते हैं.

हार्ट से जुड़ी दिक्कतें भी हो सकती हैं


इसके अलावा अल्कोहल और एनर्जी ड्रिंक को मिक्स करके पीने का मतलब है कि आप सामान्य अल्कोहल की तुलना में बहुत अधिक शुगर, कैलोरीज और कैफीन का सेवन कर रहे हैं जिसकी वजह से आपकी हार्ट रेट बढ़ सकती है, घबराहट महसूस हो सकती है, नींद से जुड़ी दिक्कतें आ सकती हैं, चिड़चिड़ापन और टेंशन महसूस हो सकती है. साथ ही एंग्जाइटी और पैनिट अटैक भी महसूस हो सकता है.