अभयचरणारविंद भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (1 सितम्बर 1896 – 14 नवम्बर 1977) जिन्हें स्वामी श्रील भक्तिवेदांत प्रभुपाद के नाम से भी जाना जाता है, बीसवीं सदी के एक प्रसिद्ध गौडीय वैष्णव गुरु तथा धर्मप्रचारक थे। उन्होंने वेदान्त, कृष्ण-भक्ति और इससे संबंधित क्षेत्रों पर शुद्ध कृष्ण भक्ति के प्रवर्तक श्री ब्रह्म-मध्व-गौड़ीय संप्रदाय के पूर्वाचार्यों की टीकाओं के प्रचार प्रसार और कृष्णभावना को पश्चिमी जगत में पहुँचाने का काम किया। ये भक्तिसिद्धांत ठाकुर सरस्वती के शिष्य थे जिन्होंने इनको अंग्रेज़ी भाषा के माध्यम से वैदिक ज्ञान के प्रसार के लिए प्रेरित और उत्साहित किया। इन्होने इस्कॉन (ISKCON) की स्थापना की और कई वैष्णव धार्मिक ग्रंथों का प्रकाशन और संपादन स्वयं किया।


इनका पूर्वाश्रम नाम "अभयचरण डे" था और ये कलकत्ता में जन्मे थे। सन् १९२२ में कलकत्ता में अपने गुरुदेव श्री भक्तिसिद्धांत सरस्वती ठाकुर से मिलने के बाद उन्होंने श्रीमद्भग्वद्गीता पर एक टिप्पणी लिखी, गौड़ीय मठ के कार्य में सहयोग दिया तथा १९४४ में बिना किसी की सहायता के एक अंगरेजी आरंभ की जिसके संपादन, टंकण और परिशोधन (यानि प्रूफ रीडिंग) का काम स्वयं किया। निःशुल्क प्रतियाँ बेचकर भी इसके प्रकाशन क जारी रखा। सन् १९४७ में गौड़ीय वैष्णव समाज ने इन्हें भक्तिवेदान्त की उपाधि से सम्मानित किया, क्योंकि इन्होने सहज भक्ति के द्वारा वेदान्त को सरलता से हृदयंगम करने का एक परंपरागत मार्ग पुनः प्रतिस्थापित किया, जो भुलाया जा चुका था।

सन् १९५९ में सन्यास ग्रहण के बाद उन्होंने वृंदावन में श्रीमदभागवतपुराण का अनेक खंडों में अंग्रेजी में अनुवाद किया। आरंभिक तीन खंड प्रकाशित करने के बाद सन् १९६५ में अपने गुरुदेव के अनुष्ठान को संपन्न करने वे ७० वर्ष की आयु में बिना धन या किसी सहायता के अमेरिका जाने के लिए निकले जहाँ सन् १९६६ में उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय कृष्णभावनामृत संघ (ISKCON) की स्थापना की

'इस्कॉन' की स्थापना

 सन 1959 में संन्यास ग्रहण के बाद भक्ति वेदान्त स्वामी प्रभुपाद ने वृन्दावन, मथुरा में 'श्रीमद्भागवत पुराण' का अनेक खंडों में अंग्रेज़ी में अनुवाद किया। आरंभिक तीन खंड प्रकाशित करने के बाद सन 1965 में अपने गुरुदेव के अनुष्ठान को संपन्न करने अमेरिका को निकले। जब वे मालवाहक जलयान द्वारा पहली बार न्यूयॉर्क नगर में आए तो उनके पास एक पैसा भी नहीं था। अत्यंत कठिनाई भरे क़रीब एक वर्ष के बाद जुलाई, 1966 में उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय कृष्णभावनामृत संघ ('इस्कॉन' ISKCON) की स्थापना की। सन 1968 में प्रयोग के तौर पर वर्जीनिया, अमेरिका की पहाड़ियों में नव-वृन्दावन की स्थापना की। दो हज़ार एकड़ के इस समृद्ध कृषि क्षेत्र से प्रभावित होकर उनके शिष्यों ने अन्य जगहों पर भी ऐसे समुदायों की स्थापना की। 1972 में टेक्सस के डलास में गुरुकुल की स्थापना कर प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा की वैदिक प्रणाली का सूत्रपात किया। 14 नवंबर, 1977 ईं को 'कृष्ण-बलराम मंदिर', वृन्दावन धाम में अप्रकट होने के पूर्व तक श्रील प्रभुपाल ने अपने कुशल मार्ग निर्देशन के कारण 'इस्कॉन' को विश्व भर में सौ से अधिक मंदिरों के रूप में विद्यालयों, मंदिरों, संस्थानों और कृषि समुदायों का वृहद संगठन बना दिया। उन्होंने 'अंतर्राष्ट्रीय कृष्ण भावनामृत संघ' अर्थात्‌ 'इस्कॉन' की स्थापना कर संसार को कृष्ण भक्ति का अनुपम उपचार प्रदान किया। आज विश्व भर में इस्कॉन के आठ सौ से ज्यादा केंद्र, मंदिर, गुरुकुल एवं अस्पताल आदि प्रभुपाद की दूरदर्शिता और अद्वितीय प्रबंधन क्षमता के जीते जागते साक्ष्य हैं।

त्याग

श्री रूप गौड़िया मठ इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश वह जगह थी जहां भक्तिवेदांत जीने के लिए इस्तेमाल किया था, उन्होंने इस इमारत के पुस्तकालय में लिखी और पढ़ाई की थी, यहां उन्होंने गौड़ा «पत्र पत्रिका को संपादित किया और यह वह जगह है जहां उन्होंने मूर्तिकरण भगवान चैतन्य का जो राधा कृष्ण के देवताओं के बगल में वेदी पर खड़ा है (नाम का अस्स्रा अस्स्राः आरए द्वा विनोदविहिका आरए «जे एस ')। सितंबर 1 9 5 9 में उनकी यात्रा के दौरान उन्होंने अभय बाबू के रूप में सफेद में कपड़े पहने इस मठ के दरवाज़े में प्रवेश किया, लेकिन भगवा, एक संन्यासी में तैयार रहना होगा। उन्होंने संन्यास नाम स्वामी को प्राप्त किया (शीर्षक से), शीर्षक स्वामी के साथ भ्रमित होने के लिए नहीं। इस मठ में, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश में, अभय चरण भक्तिविदांत ने वैष्णव को अपने मित्र और गॉडब्रदर भक्ति प्रज्ञाना केशव से प्रतिज्ञा की, वैष्णव को त्याग दिया, और इसके बाद उन्होंने अकेले भागवत की पहली पुस्तक के सत्रह अध्यायों को कवर करने वाले पहले तीन खंडों को प्रकाशित किया। पुराण, एक विस्तृत टिप्पणी के साथ चार सौ पन्नों के तीन खंडों को भरना। प्रथम खंड का परिचय चैतन्य महाप्रभाव का एक जीवनी स्केच था। उन्होंने भारत छोड़ दिया, जलदूट नामक माल ढुलाई जहाज पर मुफ्त मार्ग प्राप्त करना, उद्देश्य और दुनिया भर के चैतन्य महाप्रभु के संदेश को फैलाने के लिए अपने आध्यात्मिक गुरु की शिक्षा को पूरा करने की आशा के साथ। उनके कब्जे में एक सूटकेस, एक छाता, शुष्क अनाज की आपूर्ति, लगभग आठ डॉलर मूल्य भारतीय मुद्रा और किताबों के कई बक्से थे।

ग्रंथों की प्रामाणिकता

श्रील प्रभुपाद के ग्रंथों की प्रामाणिकतागहराई और उनमें झलकता उनका अध्ययन अत्यंत मान्य है। कृष्ण को सृष्टि के सर्वेसर्वा के रूप में स्थापित करना और अनुयायियों के मुख पर "हरे राम हरे राम राम राम हरे हरेहरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरेका उच्चारण सदैव रखने की प्रथा इनके द्वारा स्थापित हुई। 1950 ईंमें श्रील प्रभुपाद ने गृहस्थ जीवन से अवकाश लिया और फिर वानप्रस्थ जीवन व्यतीत करने लगेजिससे वे अपने अध्ययन और लेखन के लिए अधिक समय दे सके। वे वृन्दावन धाम आकर बड़ी ही सात्त्विक परिस्थितियों में मध्यकालीन ऐतिहासिक श्रीराधा दामोदर मन्दिर में रहे। वहाँ वे अनेक वर्षों तक गंभीर अध्ययन एवं लेखन में संलग्न रहे। 1959 में उन्होंने संन्यास ग्रहण कर लिया था। श्रीराधा दामोदर मन्दिर में श्रील प्रभुपाद ने अपने जीवन के सबसे श्रेष्ठ और महत्त्वपूर्ण ग्रंथ का आरंभ किया। यह ग्रंथ था- "अठारह हज़ार श्लोक संख्या के श्रीमद्भागवत पुराण का अनेक खण्डों में अंग्रेज़ी में अनुवाद और व्याख्या"

निधन

श्रील प्रभुपाद जी का निधन 14 नवम्बर, 1977 में प्रसिद्ध धार्मिक नगरी मथुरा के वृन्दावन धाम में हुआ।