जालंधर : कोर्ट परिसर के बाहर सीनियर एडवोकेट अशोक कुमार वर्मा पर जानलेवा हमला करने के मामले में थाना बारादरी की पुलिस ने एडवोकेट प्रमोद कश्यप और उनके भाई परमजीत कश्यप सहित सुधा नाम की महिला पर केस दर्ज किया है। अशोक वर्मा ने पुलिस को शिकायत दी कि इन लोगों ने इसलिए हमला किया क्योंकि वे उसे मजा चखाना चाहते थे। इन लोगों ने उसे कहा भी था कि वह उनके खिलाफ केस लड़ता है इसलिए बदला लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि दोनों भाई अवैध कब्जे करते हैं और वे उनके खिलाफ खड़े होते हैं। उसी कारण उन्होंने महिला सुधा को जरिया बना उससे मारपीट की और उसके गले से चेन उतार ली। सुधा उनके पास काम करती थी और उसने भी उनके साथ मिलकर उनसे मारपीट की। दूसरी तरफ एडवोकेट प्रमोद कुमार ने बताया कि वह कोर्ट में अपने काम से जा रहे थे। वहां एडवोकेट अशोक कुमार एक महिला से मारपीट कर रहे थे। उन्होंने महिला को छुड़ाया तो उसने कहा कि वह अशोक के पास काम करती थी। उसको पैसे नहीं दिए गए उलटा गंदी बातें और हरकतें की जाती थी। बुधवार को उसने कोर्ट में जा रहे अशोक से पैसे मांगे तो उसने उसे बुरी तरह से पीटा और कपड़े फाड़ दिए। एडवोकेट प्रमोद ने बताया कि अशोक कुमार और उनके कुछ साथी वकील उससे रंजिश रखते हैं। उक्त लोगों ने उनके घर के बाहर बम भी रखवा दिया था ताकि उनको जान से मारा जा सके। इस मामले का कोर्ट में केस भी चल रहा है। उसने महिला को बचाया उसी बात की रंजिश रखते हुए उनके खिलाफ झूठा मामला दर्ज करवाया गया है। इस संबंध में सुधा ने पुलिस कमिश्नर को शिकायत देकर इंसाफ की भी गुहार लगाई है