जालंधर:-♂ शहर के भीतर से अमृतसर पठानकोट की तरफ जाने वाले ट्रैफिक को हाईवे पर पीएपी चौक से ही सीधा प्रवेश मिलने की संभावनाएं प्रबल होती दिखाई दे रही है। इससे लोगों को न तो रामामंडी घूमकर पीएपी फ्लाई ओवर पर आना पड़ेगा और न ही जाम का सामना करना पड़ेगा। पीएपी रेलवे ओवर ब्रिज (आरओबी ) को सात लेन बनाने की प्रक्रिया को रेलवे ने हरी झंडी प्रदान कर दी है। मौजूदा चार लेन आरओबी के साथ अतिरिक्त तीन लेन का एक अन्य ओवरब्रिज बनेगा। अब फाइल रैलवे फिरोजपुर मंडल के नेटवर्क एंड टेलीकाम विभाग के पास भिजवा दी गई है। 
नेशनल हाईवे अथारिटी आफ इंडिया (एनएचएआइ) के जालंधर प्रोजेक्ट डायरेक्टर कार्यालय की तरफ से रेलवे की देखरेख में अतिरिक्त थ्री लेन ओवरब्रिज का निर्माण करवाया जाएगा। कुछ ही दिन में एनएचएआइ की तरफ से निर्माण के लिए टेंडर जारी कर दिए जाएंगे। लगभग एक वर्ष की अवधि में आरओबी का निर्माण कर लिया जाएगा। नया बनाया जाने वाला तीन लेन पीएपी रेल ओवर ब्रिज 15 मीटर चौड़ा होगा। इसे अमृतसर-पठानकोट की तरफ से आने वाले ट्रैफिक को शहर की तरफ आने के लिए उपयोग किया जाएगा। एनएचएआइ ने आरओबी के लिए जगह का चयन कर लिया है। जल्द ही इसका निर्माण शुरू हो जाएगा।            बीबीएमबी से लेकर पीएपी के गेट नबर चार तक बनेगा ब्रिज मौजूदा समय में पीएपी आरओबी फोरलेन है, जिसे शहर से बाहर जाने के लिए एवं शहर के भीतर प्रवेश करने के लिए आधा-आधा (दो-दो लेन) इस्तेमाल किया जा रहा है। नया श्री लेन आरओबी बन जाने के बाद पुराने आरओबी को मात्र शहर से बाहर जाने के लिए ही इस्तेभाल किया जाएगा। नया आरओबी बीबीएमबी कार्यालय के सामने से शुरू होगा और पीएपी के गेट नंबर 4 के आगे उतरेगा। इस रेलवे ओवर ब्रिज के निर्माण से लोगों की परेशानी कम होगी। इसके साथ ही उन्हें जाम से भी मुक्ति मिल जाएगी।