करीं माफ गुनाह मेरे असी उडदे आसरे तेरे
हर पल करीये शुक्राना दिन रात ते शाम सवेरे

कण कण विच तेरा बसेरा हर शै विच तेरा वास है
चरणां तों ना दूर करीं हर पल एहो अरदास है
तेरे जेहा ना मिलेया कोई मैं घुमैया चार चुफेरे
हर पल करीये शुक्राना दिन रात,,,,,,,,,,,,,

जन्म जन्म तों भटक रैहा सी आई मिलण दी वारी है
पै के विषय विकारां विच लुट गई साहां दी पुजीं सारी है
मेहरां भरेया हथ रखीं असीं किते पाप बथेरे
हर पल करीये शुक्राना दिन रात,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

जिथे रखें जिवें रखें राजी होके रहणा ऐ
दूख होवे जां सुख होवे इको जाण के सहणा ऐ
तेरे दर ते लाई रखणें तेरे मगतेआं फेरे
हर पल करीये शुक्राना दिन रात,,,,,,,,,,,,,,,

सतगुरु एनीं उम्र बक्श दे देखा नव प्रभात जी
विश्व शांति आवे जल्दी दूर होवे हनेरी रात जी
रमेश आ रहे नवल भौर दे पल निरंतर नेडें
हर पल करीये शुक्राना दिन रात,,,,,,,,,,,,

करी माफ़ गुनाह मेरे असी उडदे आसरे तेरे
हर पल करीये शुक्राना दिन रात ते शाम सवेरे

करी माफ़ गुनाह मेरे असी उडदे आसरे तेरे
हर पल करीये शुक्राना दिन रात ते शाम सवेरे